window.dataLayer = window.dataLayer || []; function gtag(){dataLayer.push(arguments);} gtag('js', new Date()); gtag('config', 'UA-168089041-1');

ठिकाना :- बाजना (करौली रियासत )

करौली के रियासत कालीन ठिकाने


बाजना सपोटरा तहसील से 5 किलोमीटर दूर स्थित है । यहां पर जंगल , कालीसिल बांध आदि घूमने लायक स्थान है । यहां से कुछ दूर बर्वासन देवी का मंदिर है । कैलादेवी मंदिर यहां से 18 किलोमीटर दूर है ।

 

 कालीसिल बांध, बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली

 

 

 nature view बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली

 

 

सलेदी द्वारिकदास जी के छठे बेटे थे जिनके वंसज सलेदी कहलाये । बाजना सलेदियो का एक मात्र ठिकाना है । |इसमे 5 गांव आते है मतलब 5 गांव की जागीर है । जागीरदार प्रथा खत्म होने से पहले यहां के ठाकुर साहब स्वर्गीय श्री धुजराज सिंह जी जादौन थे जिनके पिताजी का नाम श्री गजराज सिंह जी जादौन था । ठाकुर साहब धुजराज सिंह जी के 2 भाई और थे स्वर्गीय ठाकर साहब श्री नारायण सिंह जी और स्वर्गीय ठाकुर साहब श्री मलखान सिंह जी ।

 

 

  बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली

 

 

पहले ये लोग उपर किले में रहते थे फिर उपर पहाड़ पर पर्याप्त सुबिधा नही हो पाने के कारण ये नीचे आ गए और स्वर्गीय ठाकुर साहब श्री धुजराज सिंह जी ने हवेली बनाई थी और सपोटरा तहसील में 2 कोठिया बनवाई ।

आज उनके दो बेटे ठाकुर साहब श्री मान सिंह जी और छोटे भाई ठाकुर साहब श्री मुकुट सिंह जी का परिवार यही रहता है । श्री नारायण सिंह जी एबम श्री मलखान सिंह जी का परिबार भी बाजना में ही रहता है ।

 

 

  बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली

 

स्वर्गीय ठाकुर साहब नारायण सिंह जी के दो बेटे श्री शेर बहादुर सिंह और श्री नवल सिंह है । और श्री मलखान सिंह जी के बेटे स्वर्गीय श्री सवाई सिंह जी का परिवार भी बाजना में रहता है

 

 

  बाजना सपोटरा तहसील करौली
  बाजना सपोटरा तहसील करौली